Pages

Friday, September 16, 2016

महावीर स्वामी जैन मंदिर कोलकाता के १५० वर्ष



Mahavira Swami, main idol at Kolkata Mahavira Swami temple
Mahavira Swami, Kolkata
मानिकतल्ला, कोलकाता  स्थित श्री महावीर स्वामी जैन मंदिर के १५० वर्ष पुरे होने जा रहे हैं. श्री सुखलाल जौहरी ने सं १९६८ में इस विशाल एवं सुरम्य मंदिर का निर्माण कराया था. इस तीर्थोपम परिसर में जैन दादाबाड़ी, राय बद्रीदास बहादूर मुकीम द्वारा निर्मित श्री शीतलनाथ स्वामी मंदिर एवं खारड़ परिवार द्वारा निर्मित श्री चंदाप्रभु स्वामी का मंदिर भी अवस्थित है.

श्री महावीर स्वामी का यह विशाल जिनालय अनेकों जिनविम्बों से सुशोभित होती है एवं  होने वाली अधिकांश पूजाएं भी इसी मंदिर में होती है. तीर्थोपम परिसर में होने के कारण यहाँ प्रतिदिन हज़ारों दर्शनार्थी आते हैं एवं पूजा, दर्शन कर अपना मानव जीवन सफल बनाते हैं.

समवशरण चित्र, महावीर स्वामी मंदिर, कोलकाता 

नक्काशी एवं कला, महावीर स्वामी मंदिर, कोलकाता 

सन १९६८ में माघ शुक्ल दशमी के शुभ दिन इस मंदिर की प्रतिष्ठा हुई थी और आगामी वर्ष २०१७ में माघ शुक्ल दशमी ६ फरवरी को पद रहा है. यह दिन इस मंदिर का १५० वां प्रतिष्ठा दिवस है और इसी दिन से मंदिर में ध्वज चढ़ा कर एक वर्षीय कार्यक्रम का शुभारम्भ किया जायेगा। इस समय मंदिर का विशेष रूप से शिखर के जीर्णोद्धार का काम भी चल रहा है एवं आशा है की कार्यक्रम के समय तक यह काम भी पूरा हो जायेगा। श्री चेतन कोठारी इस कार्य में विशेष रूचि ले रहे हैं.

 इस जिनालय का देखरेख इस समय श्रीमती पुतुल कोठारी परिवार द्वारा किया जा रहा है एवं  सदस्यों की भावना है की इस प्राचीन जिनालय के १५० वर्ष पूर्ती के उपलक्ष्य में भव्य कार्यक्रम रखा जाए और उसे पुरे वर्ष भर चलाया जाए. कार्यक्रम की रूपरेखा जयपुर के श्री ज्योति कोठारी एवं अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त विधिकारक श्री यशवंत गोलेच्छा  मार्गदर्शन में बनाया जा रहा है।

सभी साधर्मी भाइयों से निवेदन है की इस प्राचीन जिनालय के १५० वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर होनेवाले कार्यक्रमों में अधिक से अधिक संख्या में पधार कर पुण्य लाभ अर्जित करें।

अल्पसंख्यकों के लिए राज्य सरकार का १०० करोड़ का बजट : अतिरिक्त मुख्य सचिव


पानी बचाने के लिए जैन समाज आगे आए और अपना धर्म निभाये


Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com 
allvoices

No comments:

Post a Comment