Pages

Saturday, June 21, 2014

ऋजुबालिका बराकर में प्रतिष्ठा २५ जून २०१४

महावीर  स्वामी समवसरण 
चरम तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी की केवलज्ञान कल्याणक भूमि ऋजुबालिका बराकर में २५ जून २०१४ को जिन मंदिर की भव्य अंजनशलाका एवं प्रतिष्ठा होगी।आज से लगभग २५६० वर्ष पूर्व तीर्थंकर श्रमण भगवन महावीर ने रिज़ुबालिका नदी के किनारे जृम्भिक (वर्तमान बराकर) ग्राम में केवल ज्ञान प्राप्त किया था. यह स्थान सम्मत शिखर तीर्थ, मधुवन से करीब २० किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. इस स्थान की व्यवस्था श्वेताम्बर कोठी, मधुबन द्वारा की जाती है. अब तक यहाँ पर एक छोटा सा मंदिर था पर अब एक भव्य मंदिर बना कर उसकी प्रतिष्ठा कराइ जा रही है.

परम पूज्य खरतर गच्छीय मुनि श्री पीयूष सागर जी महाराज एवं अध्यात्म निष्ठ मुनि श्री महेन्द्रसागर जी महाराज की निश्रा में यहअंजनशलाका एवं प्रतिष्ठा संपन्न होगी।  इस अवसर पर परम पूज्या प्रवर्तिनी मोदय स्वर्गीया श्री विचक्षण श्री जी महाराज साब की सुशिष्याये मणिप्रभा श्री जी, विजयप्रभा श्री जी आदि ठाना भी उपस्थित रहेंगी।

परम पूज्या साध्वी श्री मणिप्रभा श्री जी की प्रेरणा से या मंदिर निर्मित हुआ है. इसमें मावीर प्रभु की केवलज्ञान प्राप्ति मुद्रा गोदुहिकासन में नयनाभिराम प्रतिमा विराजित की जाएगी। इस मुद्रा में प्रभु की यह पहली मूर्ति है. कोलकाता निवासी श्री विमल चन्द महमवाल परिवार ने मूलनायक जी की प्रतिष्ठा करने का लाभ लिया है.

सबी व्यवस्था प्रतिष्ठा आयोजन समिति की और से की गई है. इस पावन अवसर पर देस भरसे लोग वहाँ पहुंच रहे हैं.

Railway line in Sammet Shikharji


Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com 
allvoices

No comments:

Post a Comment