Pages

Sunday, April 13, 2014

"संगठन की बीणा को झनझनाने दो, गीत एकता के गुनगुनाने दो"



सकल जैन समाज का महावीर जयंती संपन्न

सकल जैन समाज का महावीर जयंती समारोह जैन धर्म के सभी समुदाय के साधु साध्वियों के सान्निध्य में सुबोध पब्लिक स्कूल, जयपुर  में संपन्न हुआ. सर्व प्रथम सीमा दफ्तरी ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया। मुनि श्री हिम कुमार जी एवं पारस जैन ने भी भजन गाये.

प्रसिद्द व्यवसायी एवं समाज सेवी विमल चंद जी सुराणाराजकुमार जी बरडिया ने अतिथियों का तिलक लगा कर स्वागत किया।

ब्रह्मचारिणी हीना दीदी ने जैन धर्म के लक्षण बताये। मुनि अलोक कुमार जी ने कहा की महावीर के सिद्धांत को अपना कर जैन एकता की पुष्ट करनी है. मुनि मणिरत्न सागर जी ने तीर्थंकरों के कल्याणक का रहस्य बताते हुए महावीर जयंती का महत्व समझाया। आचार्य सुधर्म सागर जी ने अहिंसा व अपरिग्रह को भगवन महावीर का मूल सिद्धांत बताते हुए उस पर चलने की नसीहत दी.

राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश माननीय एन के जैन ने कहा की सभी धर्मो में पंथ होते हैं उसी प्रकार जैनों में भी हैं परन्तु आपस में विवाद छोड़ कर एक होने का प्रयास जैन एकता एवं संगठन की दिशा में ठोस कदम है.  इसी समय अनिल श्रीमाल ने "संगठन की बीणा को झनझनाने दो, गीत एकता के गुनगुनाने दो" गीत से श्रोताओं को मन्त्र मुग्ध कर दिया।  राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश माननीय जे के रांका ने भी अपने विचार प्रस्तुत किये. सांसद महेश जोशी ने संतो के आशीर्वाद लिए एवं रक्तदान शिविर का निरीक्षण किया।

इस अवसर पर आचार्य तुलसी जन्म शताब्दी वर्ष के उपलक्ष्य में अणुव्रत संहिता का अनावरण अणुव्रत समिति के अखिल भारतीय अध्यक्स जे एल नाहर के हाथों से कराया गया.

श्री जैन युवा परिषद द्वारा आयोजित रक्तदान शिविर में न्यायाधीश माननीय जे के रांका, संजय बाफना सहित दो सौ से अधिक लोगो ने रक्तदान किया।

कार्यक्रम का सञ्चालन सकल जैन समाज के सन्योजक ज्योति कोठारी ने किया एवं मानक काला ने आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम के पश्चात साधर्मी वात्सल्य (प्रीतिभोज) रखा गया था जिसमे हज़ारों लोगो ने सामूहिक भोजन किया।

सकल जैन समाज का महावीर जयंती उत्सव १३ अप्रैल

Vardhaman Infotech
 A leading IT company in Jaipur Rajasthan, India E-mail: info@vardhamaninfotech.com http://vardhamaninfotech.com/
allvoices

No comments:

Post a Comment