Pages

Friday, December 7, 2012

जैन डाक्टरों का अखिल भारतीय सम्मलेन, सूरत



अभी कुछ दिनों पूर्व सूरत में जैन डाक्टरों का अखिल भारतीय सम्मलेन आयोजित हुआ जिसमे भारत भर के लगभग 250 डाक्टर सम्मिलित हुए। पूज्य उपाध्याय श्री ज्ञानसागर जी के सान्निध्य में आयोजित इस सम्मलेन में देश के बिभिन्न प्रान्तों से ख्यातनामा चिकित्सकों ने अपने विचार व्यक्त किये। इस सफल एवं सुन्दर कार्यक्रम का पारस टीवी ने लाइव प्रसारण किया था। इस सम्मलेन में मुझे भी बोलने के लिए आमंत्रित किया गया था एवं पहले सत्र में लगभग 40 मिनट तक बोलने का मौका दिया गया।

4 नवम्बर 2012, रविवार को दिन भर चले इस सम्मलेन का विषय अध्यात्मिक था। चिकित्सकों से यह सुनने में अच्छा लगा की किस प्रकार जैन धर्म एवं अध्यात्म स्वस्थ्य रहने में उपयोगी हो सकता है। मैंने जैन आगम एवं शास्त्रों में रोग, निदान, चिकित्सा, चिकित्सक, औषध, पथ्य आदि के संवंध में पाए गए विवरणों की बात की थी। साथ ही चिकित्सकों की नैतिकता पर भी चर्चा की।

मैंने मेरी बात अभयदेव सूरी रचित "जय तिहुअण" स्तोत्र की "जर जज्जर परिजुण"  गाथा से की जिसमे बिभिन्न रोगों का नाम ले कर भगवन पार्श्वनाथ से प्रार्थना की गई है। इस गाथा में भगवन को धन्वन्तरी वैद्य की उपमा दे कर उनसे रोगों की मुक्ति के लिए प्रार्थना की गई है। इसके बाद आचारांग सूत्र, स्थानांग सूत्र, भगवती सूत्र, ज्ञाता धर्मकथा, विपाक  सूत्र आदि आगम ग्रंथों में रोग, निदान, चिकित्सा, चिकित्सक, औषध, पथ्य आदि के संवंध में पाए गए विवरणों की बात की।
विस्तृत विवरण के लिए देखें: 
Disease, diagnosis, doctors, medicines and medical practices in Jain canons (Agam) 

विशेष रूप से आगमों में पाए जाने वाले "रोग निदान" का उल्लेख करते हुए कहा कि वर्तमान में "Clinical" की जगह आधुनिक चिकित्सक गण "Testing" पर निर्भर हो गए हैं जिससे मरीजों पर अतिरिक्त भार पड़ रहा है। यह अहिंसा व्रत का "अति भारारोपन" नामक अतिचार भी है। Testing से कुछ चिकित्सकों को Commission के रूप में कुछ अतिरिक्त आय अवस्य हो जाती है परन्तु अधिकांश लाभ तो क्लिनिक एवं कंपनियों के हिस्से में ही जाती है। मैंने चिकित्सकों से आग्रह किया की किसी अन्य को मोटा फायदा पहुचने के लिए रोगियों पर अतिरिक्त भार न डालें तो यह धर्म एवं नैतिकता की दृष्टि से श्रेष्ठ होगा। जहाँ आवश्यक हो वहीँ Testing करवाएं अन्यथा Clinical पर भरोसा करें। मेरी इस बात का उपस्थित चिकित्सकों से स्वागत किया एवं इस पर अमल करने का आश्वासन दिया। 

इसके साथ ही उवसग्गहरं, लोगस्स, भक्तामर आदि सूत्रों में रोग एवं चिकित्सा व स्वास्थ्य की प्रार्थनाओं का उल्लेख किया।

Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

Thursday, November 1, 2012

Disease, diagnosis, doctors, medicines and medical practices in Jain canons (Agam)


Large numbers of texts are found in Jain Agams about diseases, ailments, diagnosis, methods of treatments, medicines, surgery, medical practices and medical practitioners. (English Translation by Sri Surendra Bothra) Few of these texts are as follows:

Acharanga Sutra

173. Now you should observe -- those people in those clans, due to their own attitudes (as a consequence of their deeds) suffer from the following ailments --
i. Gandamala (goitre), ii. Kodh (leprosy), iii. Rajayakshma (tuberculosis), iv. Apasmaar (epilepsy), v. Kanatva (blindness in one eye), vi. Jadata (paralysis), vii. Kunitva (deformity of limbs), viii. Kubadapan (kyphosis or hunchbacked), ix. Udar-rog (gastrointestinal disorders or gastropathy), x. Mook-rog (dumbness; aphasia; aphonia), xi. Shoth-rog (oedema; inflammation; distention; turgidity), xii. Gilasini or Bhasmak Rog (over-digestion; hyperphagia), xiii. Vepaki or kampan vaat (ague; malaria), xiv. Peeth-sarpi (polio), xv. Shleepad Rog (elephantiasis), and xvi. Madhumeha (diabetes). These sixteen ailments have been stated in due order.

After this he suffers contagious, non-treatable and fatal diseases.
****

88. Know and understand (absorb) what I say. Claiming himself to be the master of medicine he (doctor) offers cure (of carnal desires). He kills, pierces, chases, displaces, and destroys many beings (for this purpose). He resolves that 'I will do what no one has done' (and indulges in violence). His patient too (joins him in violence).

What is the benefit of the company of such ignorant (the healer who employs violent methods)? He who goes for such cure is also ignorant.

An ascetic does not resort to such cure.

So I say.

Elaboration -- In this paragraph any treatment based on violence has been censured. According to Acharya Atmaram ji M. -- As in the preceding paragraphs the subject discussed is carnal desires, it is possible that this reference to treatment is in context of sexual competence and venereal diseases. To enhance his sexual enjoyment man uses various medicines, aphrodisiac and drugs like morphine. When body becomes weak and he looses his sexual competence he wants to regain and extend his potency through implants, prostheses, and other surgical methods using animal organs or medicines made thereof. For this purpose doctors and other healers indulge in violence towards animals. Thus the patient and doctor both are partners in such violence.


STHANANGA

VYADHI CHIKITSA-PAD (SEGMENT OF TREATMENT OF AILMENTS)

515. Vyadhis (ailments) are of four kinds -- (1) vatik -- caused due to disturbed vaayu (air), (2) paittik -- caused due to disturbed pitta (bile), (3) shleshmik -- caused due to disturbed kaf (phlegm) and (4) sannipatik -- caused due to combined disturbance of all the three said body humours.

516. There are four limbs of chikitsa (treatment) -- (1) vaidya (doctor), (2) aushadh (medicine), (3) aatur (patient) and (4) paricharak (nurse)

517. Chikitsak (doctor) are of four kinds -- (1) some doctor cures himself and not others, (2) some doctor cures others and not himself, (3) some doctor cures himself as well as others and (4) some doctor neither cures himself nor others. (Like a doctor there are four kinds of aspirants who cure the disease of rebirths.  -- Hindi Tika)

518. There are four kinds of men who do surgery (vran) -- (1) some doctor incises but does not clean the wound (vran-parimarsh), (2) some doctor cleans the wound but does not incises, (3) some doctor incises as well as cleans the wound and (4) some doctor neither incises nor cleans the wound.

519. There are four kinds of men who do surgery (vran) -- (1) some doctor incises but does not protect the wound by bandaging (vran-samrakshan), (2) some doctor protects the wound by bandaging (vran-samrakshan) but does not incises, (3) some doctor incises as well as protects the wound by bandaging (vran-samrakshan) and (4) some doctor neither incises nor protects the wound by bandaging (vran-samrakshan).

520. There are four kinds of men who do surgery (vran) -- (1) some doctor incises but does not administer healing medicine (vran-samrohi), (2) some doctor administers healing medicine but does not incises, (3) some doctor incises as well as administers healing medicine and (4) some doctor neither incises nor administers healing medicine.

ANTARBAHIRVRAN-PAD (SEGMENT OF INNER AND OUTER INFECTION)

521. There are four kinds of vran (wounds) -- (1) some vran (wound) has infection (shalya) inside but it is not visible on the surface, (2) some wound has infection on the surface and not inside, (3) some wound has infection inside as well as on the surface and (4) some wound has no infection either inside or on the surface.

Men are also four kinds -- (1) some man is deceitful (shalya) inside but not in appearance, (2) some man is deceitful in appearance and not inside, (3) some man is deceitful inside as well as in appearance and (4) some man is deceitful neither inside nor in appearance.

522. There are four kinds of vran (wounds) -- (1) some vran (wound) has virulent (dusht) infection (shalya) inside but not on the surface, (2) some wound has virulent infection on the surface and not inside, (3) some wound has virulent infection inside as well as on the surface and (4) some wound has no virulent infection either inside or on the surface.

Men are also four kinds -- (1) some man is evil (dusht) inside but not in appearance (appears good), (2) some man is evil in appearance (speech and disposition) and not inside, (3) some man is evil inside as well as in appearance and (4) some man is evil neither inside nor in appearance.

Elaboration -- Vran means wound. They are of two types -- (1) bahya vran (outer wound) -- the wound made by a sharped edged thing like knife, needle, thorn, glass etc. (2) Antar vran -- boil, tumour and other such inner infections that burst open.

There are two classes of wound from the angle of dravya (physical) and bhaava (mental). Wounds on the body are dravya-vran (physical wounds) and transgressions or faults in accepted vows are bhaava-vran (mental wounds). The cure of mental wounds is effected through self-criticism, self-reproach and critical review. In scriptures there is a mention of three classes of bhaava-shalya (mental thorn) -- (1) maaya shalya (thorn of deceit), (2) nidaan shalya (thorn of desires) and (3) mithyadarshan-shalya (thorn of unrighteousness).

All these quads should be interpreted both ways, physical and mental.

***

Bhagavati Sutra
Names of some diseases:

4. [3] All the following conditions to the south of the Meru mountain in Jambu Dveep are not unknown to, not unseen by, not unheard by, not forgotten by and not particularly unknown to him (Yama Maharaj, the Lok-pal of Devendra Shakra) and his subordinate gods (in other words, these conditions occur in their knowledge) -- dimb (problems like riots), ……………Kula-roag (hereditary diseases), gram-roag (village epidemic), mandal-roag (district epidemic), nagar-roag (city epidemic), shirovedana (headache), pain in eyes, ears, nails and teeth,  ……… ekantar jvar (fever on alternate days), dvi-antar (fever after a gap of two days), tijara (fever after a gap of three days), chauthiya (fever after a gap of four days), udvejak (restlessness due to separation from loved ones or theft etc.), kasa (bronchitis), shvas (asthma), shosha (debilitating fever), jara (dotage), dahajvar (fever with burning sensation), kachchha-koha (tumor or fetid sores in armpits and other such parts of the body), ajeerna (indigestion), panduroag (jaundice), arsha (bleeding piles), bhagandar (fistula of the anus), hridayashula (anginal pain), mastak-pida (migraine or cranial neuralgia), yoni-shula (vaginal pain), parshva-shula (pain in armpit or sides of the body), kukshishula (stomach-ache); epidemic in village (gram), nagar (city), khet (kraal), karbat (market), dronmukh (hamlet), madamb (borough), pattan (harbour), ashram (hermitage), samvah (settlement in a valley), and sannivesh (temporary settlement); pran-kshaya (loss of life), dhan-kshaya (loss of wealth), jana-kshaya (loss of people), kula-kshaya (loss of clan), vyasan-bhoot (bad habits), ignoble and other such acts. (3/7/4/3 )


Jnyata Dharma Katha: Dardur Adhyayan

THE HOSPITAL

                17. Nand Manikaar constructed a large hospital in the western garden. This was also as beautifully constructed as the other two (as para 14). Many healers were appointed in this hospital; these included senior and junior Vaidyas (qualified Ayurvedic doctors), senior and junior Jnayaks (those who learned and practiced the art of healing through their own experience), and senior and junior Kushals (those who practiced the art of healing purely on the basis of logical deductions). They treated many a patient including mentally sick, anaemic and weak patients. There were other nursing, cleaning and cooking staff as well as pharmacists, chemists and other helpers employed in the hospital to look after all the needs of the patients.


AILMENT OF NAND

                21. After some time Nand Manikaar was down with sixteen different ailments. They are 1. asthma, 2. bronchitis, 3. fever, 4. burning sensation, 5. infection in armpits, 6. fistula of the anus, 7. bleeding piles, 8. indigestion, 9. Glaucoma, 10. headache, 11. lack of appetite, 12. pain in the eyes, 13. pain in the ears, 14. eczema, 15. dropsy, and 16. leprosy.
                When he suffered from these ailments he called his servants and instructed, "Beloved of gods! Go and make this announcement at every corner, road, etc. in the city --
                "O Beloved of gods! Nand Manikaar is suffering from the pain of sixteen different ailments. Any Vaidya, (etc. as detailed in para 17) who is able to cure even one of these diseases will be amply and richly rewarded by him."
                Make this announcement many times and report back to me. The servants did as told and reported back.



                22. Hearing and understanding this announcement many healers (as detailed in para 17) collected their instrument boxes, honing stones, pills and other medicines, and other accessories and left their homes. They passed through the streets of Rajagriha and came to the residence of Nand Manikaar. They thoroughly examined and questioned the patient. After diagnosis they selected different methods and regimens of treatment and tried to cure the ailments one by one. The methods and processes employed are --
                1. Udvalan or application of medicinal pastes, 2. Udvartan or rubbing with medicinal pastes, 3. Snehapan or giving medicated oils, 4. Vaman or emesis, 5. Virechan or purgation, 6. Swedan or perspiring, 7. Avadahan or cauterizing with hot metal, 8. Apasnan or washing with medicated water, 9. Anuvasana or enema of medicated oils, 10. Vastikarma or common enema, 11. Niruha or to cause sweating by applying medicated oil, 12. Shiravedh or bleeding toxic blood by cutting nerveÄend, 13. Takshan or scraping of the epidermis, 14. Pravakshan or cutting of the epidermis, 15. Shiraveshta or dressing of the nerveÄend, 16. Tarpan or pouring of medicated oils, 17. Putpaak or use of cooked medicines, 18. use of medicines and other accessories of vegetable origin, and 19. use of other medicines. However, in spite of all these methods of treatment they could not cure even one single ailment.


Rogatank - Grave ailment; an ailment that causes great pain and is difficult to treat. Sixteen diseases have been listed here. Similar lists are also given in other scriptures. The list from Acharang is -- Kanth-maal (infectious parotitis or mumps), Kusht (leprosy), Kshaya (tuberculosis), Apasmar (epilepsy), Akshi Rog (eye diseases), Jadata (dementia), Heenangata (dwarfism), Kubadapan (hunched back), Udar Rog (gastrointestinal diseases), Ganjapan (balding), Sharir Shunyata (paralysis), Bhasmak Rog (hyperphagia or over eating), Reedh ki Baank (spondylosis), Shleepad (elephantiasis), and Madhumeh (diabetes). As compared to the list in Jnata Sutra this appears to be more authentic because in the former some of the diseases have been mentioned twice and some others are simple ailments.



***


Vipaak Sutra

22. After some time that governor Ekadi suffered from sixteen different chronic ailments simultaneously. They are -- 1. Asthma (shvas),  2. Bronchitis (kaas),  3. Fever (jvar), 4.  Burning sensation (daaha),  5. Stomach ache (kukshi shool),  6.  Fistula of the anus (bhagandar),   7. Bleeding piles (arsh or bavasir), 8. Indigestion (ajeern),  9. Glaucoma (drishti shool), 10. Headache (mastak shool), 11. Loss of appetite (bhojan-aruchi), 12. Pain in the eyes (akshi vedana), 13. Pain in the ears (karna vedana), 14. Eczema (khujali), 15. Dropsy (jalodar), and 16. Leprosy (kusht roag).  

When he suffered from these ailments governor Ekadi called his servants and instructed, "Beloved of gods! Go and make this announcement loudly at every corner, crossings where three, four or more roads meet, main road and streets in the Vijayavardhaman borough --

'O Beloved of gods! Governor Ekadi is suffering from the pain of sixteen different ailments including asthma, bronchitis, ... and so on up to... leprosy.
Any Vaidya (qualified Ayurvedic doctors) and junior Vaidya, senior and junior Jnayak (those who learned and practiced the art of healing through their own experience), and senior and junior Chikitsak (those who practiced medicine and surgery) who is able to cure even one of these diseases will be amply and richly rewarded by the governor.' Make this announcement two or three times and report back to me.

The servants did as told and reported back.

23. Hearing and understanding this announcement in Vijayavardhaman borough many healers (etc.) collected their instrument boxes and left their homes. They passed through the streets of Vijayavardhaman borough and came to the residence of Governor Ekadi. They thoroughly examined and questioned the patient. After diagnosis they selected different methods and regimens of treatment and tried to cure just one of the said ailments. The methods and processes employed are --

1. Abhyangan or application of medicinal pastes, 2. Udvartan or rubbing with medicinal pastes, 3. Snehapan or giving medicated oils, 4. Vaman or emesis, 5. Virechan or purgation, 6. Swedan or perspiring, 7. Avadahan or cauterizing with hot metal, 8. Apasnan or washing with medicated water, 9. Anuvasana or enema of medicated oils, 10. Niruha or to cause sweating by applying medicated oil, 11. Vastikarma or common enema, 12. Shiravedh or bleeding toxic blood by cutting nerveÄend, 13. Takshan or scraping of the epidermis with knife or other such instrument, 14. Pravakshan or cutting of the epidermis using special micro-instruments, 15. Shirovasti or covering head with leather bag filled with medicated oil or other such liquid, 16. Tarpan or pouring of medicated oils, 17. Putpaak or use of cooked medicines, 18. Chhaal or medicinal use of bark of trees, 19. Mool kand or use of radish, carrot, potato and other roots, 20. Shilika or herbal medicines like chirayata, 21. Gitika or use of pills or tablets, 22. Aushadh or medicines of vegetable origin and single ingredient, and 23. Bhaishajya or other medicines with many ingredients including those of metallic and mineral origin. However, in spite of all these methods of treatment they could not cure even one single ailment. When these healers got exhausted (shraant), confused or mentally tired (tant), and disappointed (paritant) they returned from where they came. (1/1/22)

(For more detailed information about ancient art of healing refer to Tika by Acharya Shri Atmaram ji M. p. 71-73.)

***

PAST BIRTH : DHANVANTARI VAIDYA

8. Jambu! During that period of time there was a prosperous city named Vijayapur in Bharatvarsh area in Jambu continent. In that Vijayapur city ruled a king named Kanakarath. King Kanakarath had a Vaidya (Ayurvedic doctor) named Dhanvantari who was a scholar of all the eight limbs of Ayurveda (Indian science of medicine and surgery). The names of these eight limbs of Ayurveda are as follows--

(1) Kaumarabhritya -- The part of Ayurveda that deals with nursing, nutrition and cure of ailments of infants (Paediatrics).

(2) Shalakya -- The part of Ayurveda that deals with the cure of diseases of eyes, nose and other parts of the upper half of the body.

(3) Shalyahatya -- The part of Ayurveda that deals with the removal of thorns, cysts etc. or surgery.

(4) Kayachikitsa -- The part of Ayurveda that deals with the symptoms and cure of diseases in general.

(5) Jangul --The part of Ayurveda that deals with the cure for poisons or toxicity.

(6) Bhoot-vidya -- The part of Ayurveda that deals with warding off evil spirits and pacifying them.

(7) Rasayan -- The part of Ayurveda that deals with the elixirs of life and other medicines.

(8) Baajikaran -- The part of Ayurveda that deals with the medicines and tonics for maintaining and toning up sexual performance.

That Dhanvantari Vaidya had a healing touch (shivahast). He had a pious and lucky touch (shubhahast). He had a skilled touch (laghuhast). In other words he cured his patients to their entire satisfaction with his skilled handling and treatment.

9. That Dhanvantari Vaidya used to provide treatment to the queens residing in the inner quarters of king Kanakarath's palace. His patients included many kings, rich merchants, ... and so on up to ... caravan chiefs; many other weak, mentally disturbed and ailing persons with or without guardians; Shramans, Brahmins, Bhikshuks, Karotiks (Kapalik or the mendicants who carried skull), Karpatiks (mendicants in rags), beggars, and critically sick persons.

To some of these he prescribed fish-meat, to some tortoise-meat, to some alligator-meat, to some crocodile-meat, to some sunsumar-meat, and to some goat-meat. In the same way he also prescribed flesh of sheep, black-bucks, pigs, deer, rabbits, cows, and bufaloes. To many he prescribed meat of partridge, quail (lavak), pigeon, hen, and peacock. In the same way he advised for flesh from a variety of aquatic, terrestrial, and avian beings.

Not only this, that Dhanvantari Vaidya himself spent his time tasting (asvadan), eating in larger quantity or enjoyed (visvadan) and sharing (paribhojan) habitually a variety of cooked, fried, and roasted meat of fish, peacocks ... and so on up to ...aquatic, terrestrial, and avian beings. He did that with five kinds of wines.

10. Ever involved in these sinful activities, accepting these activities to be ideal of life and the best conduct, Priest Maheshvardatt acquired extremely malevolent and pain causing karmas in abundance. After completing his life-span of three thousand two hundred years, he died and reincarnated as an infernal being in the sixth hell where the maximum life span is twenty two Sagaropam. (1/7).

(English Translation by Sri Surendra Bothra)



Kalpasutra
Translation: Dr. Mukund Lath
27.          He (Harinaigameshi god) went directly to the house of Rsabhadatta in the brahmana-sector of the town of Kundagrama and came to Devananda’s room. Having espied her, he offered his veneration to Sramana Bhagavan  Mahavira and then hypnotized Devananda and her attendants into a deep sleep. He effaced from their persons the subtle particles of unholiness and showered holiness upon them. Then, after asking leave of Sramana Bhagavan Mahavira, he gently placed him on his palms and carried him to Trisala at the palace of Siddhartha, in the Ksatriya-sector of Kunda-grama. He hypnotized Trisala and her attendants into a deep sleep, and having removed unholy particles, showered holiness upon them. Then he gently placed Bhagavan Mahavira in the womb of Trisala. He then removed the child that lay in Trisala’s womb and carried it to the womb of Devananda.               
61.    He (king Siddhartha)  climbed down the foot-stool of his bed and walked down to his gymnasium. He applied himself to various wholesome exercises: such as high-jumps, athletic jousts and wrestling. When tired and fatigued, he lay down on a mat of oiled skin and was massaged with skilful dexterity by untiring masseurs. These masseurs were in the service of king Siddhartha and they were the leading men in their profession: they were thoroughly trained and accomplished experts. They were strong-limbed but had soft hands and feet. They knew all the arts of anointing, kneading and massaging the body with swinging movements so as to revitalize it. They rubbed Siddhartha with perfumed oils which had been boiled a hundred and a thousand times. With a four-fold technique of shampooing, they stimulated Siddhartha’s bones, flesh, skin and body-hair. Their massage was pleasurable, nourishing, strength-giving, stimulatingly aphrodisiacal and exhilarating to the senses and the limbs.   

Vardhaman Infotech
 A leading IT company in Jaipur
 Rajasthan, India
 E-mail: info@vardhamaninfotech.com

allvoices

Wednesday, October 31, 2012

Fellowship for Masters in US on Jain Studies

My friend Neptune Shrimal, Miami, Florida, US has posted this in FB and asked to spread this. Pl take advantage of the same.

 Anyone know of any good student interested to do a Masters in US on Jain Studies. The student can be from any one of the diverse field: Religious Studies, History, Philosophy, Art and Architecture. The student has to pass GRE and TOEFL -- i.e., meet my university's admission criterion.
Kindly circulate this as much as
you can -- we want some real good applicants.

====================================================

Latika & Rajiv Jain Fellowship in Religious Studies/ Jain Studies

at Florida International University

Candidates are sought for a two-year graduate fellowship to be awarded to a highly qualified and motivated student in Religious Studies with a concentration in Jain Studies.

Candidates should have a B.A. (all fields will be considered), an undergraduate GPA higher than 3.5, and meet university requirements for admission.

The fellowship will cover tuition, fees and stipend for two academic years and supplement to defray the tuition and fees of intervening summer. Study or research in India is possible. It is expected that the holder of this fellowship will pursue an M.A. thesis in Jain studies.

Deadline for applications is March 1, 2013, and the fellowship will be tenable from August 2013.

Please address questions to:
Dr. Nathan Katz
Bhagwan Mahavir Professor of Jain Studies
Department of Religious Studies
Florida International University
Miami, FL 33199 (U.S.A.)

Vardhaman Infotech
 A leading IT company in Jaipur
 Rajasthan, India
 E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

Sunday, October 21, 2012

Navpad Oli started today

 Navpad oli, an important Jain festival has started today, October 21. Navpad alias Siddhachakra has immense importance in Jainism. Jain worship Navpad in Navpad oli for nine days. It comes twice in a year in Chaitra and Ashwin. This is Ashwin oli.

Large numbers of devotees worship Siddhachakra and observe Ayambil (Amil) in these days. They worship Arihant, Siddha, Acharya, Upadhyay, Sadhu, Samyag Darshan, Jnyan, Charitra and Tap during these nine days of Navpad Oli.

Pl refer to the article for more details about the festival.

Jain Festival of India: Navpad Oli (Ayambil) in Jainism

Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com

allvoices

Tuesday, May 29, 2012

Jain Muni Maitriprabh Sagar on Anshan (Fast) against slaughter houses

 Jain Muni Maitriprabh Sagar has been on Anshan (Fast) against slaughter houses. He has been on fast in Surat, Gujrat since last three days demanding ban on slaughter houses. There was a rally in Surat city of Gujrat in his support on May 29, 2012. Large numbers of people are demanding ban on slaughter houses and action against illegal cattle trafficking. Several national TV news channels covered the issue.

Jain monk Muni Maitriprabh Sagar is renowned for his movements against slaughter houses. He had his first Anshan of 17 days at Baraut in Uttar Pradesh. Recently ha had a successful Fast at Palitana, greatest Jain pilgrimage center. The government of Gujrat declared ban on animal slaughter at Palitana.

Jainism believes in non- violence and vegetarianism. Anshan of Jain monk Muni Maitriprabh Sagar is a step towards that. We support his step and invite you to support the movement.

PP Maitriprabhsagar Ji breaks his 36 days' fast in Malpura


Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com
Phone: (91-141) 4113569
allvoices

Sunday, May 20, 2012

जैन समाज के लिए सोश्यल नेट्वोर्किंग साईट


 जैन समाज एवं जैन धर्म के अनुयायिओं के लिए एक सोश्यल नेट्वोर्किंग साईट की जरुरत महसूस की जा रही थी। अब ये जरूरत पूरी हो गई है। "जैनी" एक ऐसी ही साईट है। इस साईट में सिर्फ
जैन समाज एवं जैन धर्म के अनुयायी गन ही सदस्य बन सकते हैं।


जैन धर्म के किसी भी पंथ के व्यक्ति चाहे वो श्वेताम्बर, दिगंबर, स्थानकवासी, तेरापंथी, मूर्तिपूजक कोई भी हो इस साईट का सदस्य बन सकता है।

इस साईट में भी अन्य सभी सोश्यल नेटवर्किंग साईट की तरह मित्र बनाने की, अपना स्वयं का पृष्ठ बनाने की, ग्रुप बनाने की, फोटो चढाने की आदि सभी सुविधाएँ उपलब्ध है।  यह साईट पूरी तरह से निःशुल्क है।


इस साईट का सदस्य बनने के लिए साईट पर जाइये और रजिस्टर बतन पर क्लिक कीजे। सके बाद एक छोटा
सा फॉर्म भर कर आप इसके सदस्य बन सकते हैं एवं इसमें उपलब्ध सभी सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं।

यहाँ रजिस्टर कीजिये
How to register and use Jainee, Jain social networking site

Vardhaman Infotech
 A leading IT company in Jaipur
 Rajasthan, India
 E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

How to register and use Jainee, Jain social networking site


 Jainee is a renowned name among Jain communities. It is the only social networking site that acts exclusively for Jains! Large numbers of Jain community members have been joining this social networking site.

It is a common platform for Jain communities. Members of different Jain sects can interact with each other through this social networking site Jainee. If you are a Jain you can join the site and interact with each other (Within the community) freely.

How to join Jainee?

1. First of all you have to register as a member. Registering is easy and it is free. You have not to pay anything to register on the social networking site for Jains.

2. First of all click "Register" button in the left bottom. A new window will appear.

3. There will be five columns in this window. The first one is "", you can chose any name which you want to be displayed in the site.

4. The next column is for " You have to write your complete email address here.

5. The third column is for  "". You need to put your username here. Again it can be any name. However, you can not put any space or special character in this column. You need to put your username while logging in.


6. The fourth column is for "Password". You can chose any password. Just remember the password because you will need it to log in. Repeat the same "Password" in the fifth column. Don't worry, no body can know your password.

Congratulations! You are now registered in Jainee, social networking site exclusively for Jains!

You can now log in to the site by putting your username or email address and your password created for Jainee. Please do not forget to create your profile page with descriptions about you and upload your photo from your personal computer. Though creating a profile is not compulsory but it is advisable for better performance in the social networking site.

You can now freely use all the features of the site. You can make friends, create your own page and group, upload photos, send messages and .......many other things.

Sign up Jain social networking site for free

जैन समाज के लिए सोश्यल नेट्वोर्किंग साईट


Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

Monday, May 7, 2012

जैन साधू : मोक्ष मार्ग के साधक एवं समाज के पथ प्रदर्शक

 जैन साधू एवं साध्वियां मोक्ष मार्ग के साधक होते हैं।अरिहंत परमात्मा के बताये हुए संयम एवं साधना के मार्ग पर निरंतर एवं निरलस चलते हुए अन्य जीवों को भी मोक्ष का मार्ग बताते हैं।  वे भगवन महावीर के वीर सैनिक हैं जो किसी भी परिस्थिति में अंगीकार किये हुए धर्म को नहीं छोड़ते एवं अनेक सांसारिक कष्टों को सहते हुए भी मुस्कराते हुए अपने महा अभियान में लगे रहते हैं। उनकी अष्ठ स्वयं अपनी आत्मा एवं प्रभु महावीर में सतत बनी रहती है। वे संसार से भागनेवाले नहीं होते अपितु संसार के वास्तविक स्वरुप को समझ कर उसके प्रति अपनी कामनाओं का त्याग करने वाले होते हैं। वे निरंतर गतिशील एवं प्रगतिशील होते हैं। वे किसी पर आश्रित नहीं होते परन्तु अन्य अनेक जीव उनका आश्रय ग्रहण करते हैं। वे अहिंसा आदि पञ्च महाव्रतों का पालन करते हैं, समिति एवं गुप्ती का धारण करते हैं।   जन सामान्य के घर से मिल जाये ऐसा रुखा सुखा या राजभोग जो मिल जाये उसे जीवन धारण के लिए ग्रहण कर लेते हैं। नहीं मिलने पर क्रोध नहीं करते एवं उसे तपस्या मन कर समता भाव में लीं रहते हैं। कोई निंदा- प्रशंशा, मान  - अपमान की परवाह नहीं करते. निरंतर पैदल विहार करते हुए लोगों को धर्मोपदेश दे कर उन्हें सन्मार्ग में जोड़ते हैं। ऐसे जैन साधू एवं साध्वियां निरंतर लोक कल्याण भी करते हैं। वे संघ एवं समाज से बहुत कम लेते और बहुत ज्यादा देते हैं. इसलिए भिक्षुक एवं धन वैभव रहित होते हुए भी सन्मान से उन्हें महाराज कहा जाता है। ये है जैन साधू का तात्विक एवं वास्तविक स्वरुप। वे समाज के सच्चे  पथ प्रदर्शक होते हैं।

Jain Social Networking Site 


Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

Tuesday, May 1, 2012

Deeksha Kalyanak (Initiation day) of Lord Mahavira today


 Lord Mahavira, the last Jain Tirthankar, was born in Kshatriyakund (Shwetambar belief; Vaishali according to Digambar) some 2600 ago as a prince in a royal family. He lived like a prince, though detached, till his age 28. He wanted renunciation from mundane world after death of his parents King Siddharth and Queen Trishala. He stayed in home for further two years after the request of his elder brother Nandivardhan.

He approached his elder brother to permit him for Deeksha. He initiated on Vaisakh Shukla Dasami at the age of 30 and took five vows. Deeksha Kalyanak (Initiation day) of Lord Mahavira is today, Vaisakh Shukla Dasami, 1st may this year.

He attained omniscience after more than twelve years of austerity and penance and preached Jainism.

Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

Tuesday, April 24, 2012

Jain social networking site


Jain communities needed a social networking site since long time. It was required to have a common platform for Jain communities. Members of different Jain sects can interact with each other through this networking.

This dream has come to true now. There is a social networking site exclusively for Jains. Only people from Jain communities following Jainism can become a member of the social networking site Jainee. All Shwetambar, Digambar, Sthanakvasi, Terapanthi, Moortipujak...... everybody can be a member and make friends like other social networking sites.

Now onwards Jain people can connect with each other and share their views, post events, photos and videos; share and promote their business through this Jain social networking site Jainee. This is the first Jain social networking site.
It is free like other social networking sites. Large number of Jains are joining this site everyday. Please be a member and reap the benefit.

Sign up Jain social networking site for free

 जैन समाज के लिए सोश्यल नेट्वोर्किंग साईट

Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

Saturday, April 21, 2012

श्रीमती मीना सुराना के वर्षी तप का पारना आखा तीज को

Varshi Tap Parna of Mrs. Meena Surana on Akha Teej

श्रीमती मीना सुराना, धर्मपत्नी श्री पुष्पेन्द्र सुराना पिछले दो वर्षों से वर्षी तप की आराधना कर रहीं हैं. वे एक धर्मनिष्ठ महिला हैं एवं सतत तपस्या करती रहती हैं. इससे पूर्व भी उन्होंने अट्ठाई, मासक्षमन अदि अनेक तपस्याएँ की है एवं वर्धमान की ओली भी करती रहती हैं. जैन धर्म में वर्षी तप का विशेष महत्व है. मीना जी जयपुर के प्रसिद्द भूरामल राजमल सुराना परिवार की बहु एवं हीराभाई चौधरी की बेटी हैं. उनका पारना आखा तीज को होगा.

उनके पारने के उपलक्ष्य में  सुराना परिवार द्वारा दिनांक २३ अप्रैल, २०१२ को जयपुर के विद्याश्रम ऑडिटोरियम में एक भक्ति संध्या का आयोजन रखा गया है. मुंबई की प्रसिद्ध गायिका शीला सेठिया इस भक्ति संध्या में अपना सुमधुर भजन प्रस्तुत करेंगी. पारने के उपलक्ष्य में २४ अप्रैल को स्थानीय देराउर दादाबाड़ी में नावानू प्रकारी पूजा एवं साधर्मी वात्सल्य रखा गया है.

श्रीमती मीना सुराना के वर्षी तप के उपलक्ष्य में इस वर्ष सांगानेर के प्राचीन रिषभ देव स्वामी के मंदिर में चैत्री पूर्णिमा के अवसर पर भी सुराना परिवार की और से सिद्धाचल जी की पूजा एवं एवं साधर्मी वात्सल्य का आयोजन किया गया था.

Vardhaman Infotech
A leading IT company in Jaipur
Rajasthan, India
E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

Dadabadi Pratishtha Ceremoney in Patna, Bihar

Sri Dadabadi Jirnoddhar Committee of Patna has been organizing grand ceremony between April 26 and 28 on the eve of Pratishtha.  The organizers invited Jain people to attend the ceremony at Dadabadi Patna. Pl view invitation with complete details of the program.










Vardhaman Infotech
 A leading IT company in Jaipur
 Rajasthan, India
 E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices

Thursday, April 19, 2012

जैन वास्तव में धार्मिक अल्प संख्यक ही हैं

जैन वास्तव में धार्मिक अल्पसंख्यक ही हैं
 लेखक
सुरेन्द्र बोथरा

1. अखबारों में एक खबर छपी थी  ‘अल्पसंख्यक आयोग के एक सदस्य ने सरकार को सुझाव दिया है कि जैनों को अल्पसंख्यकों की सूचि में शामिल किया जाना चाहिए।’ तत्काल कुछ लोग समर्थन में बोलने लगे तो कुछ विरोध में। जैसा कि अक्सर होता है, तथ्यों की गहराई में गए बिना जिसके मन में जो उपजा वह कह दिया। एक मुद्दे से कई मुद्दे निकाले गए और बहस पर बहस चलने लगी। भ्रान्तियां कम होने के स्थान पर बढत्रष्ष् ेचंदत्रष्ष् नतीजात्रष्ष् अनतत्रष्ष् औरत्रष्ष् लगध्ंत्रष्ष्झ

अच्छा हो कि ऐसे मसलों पर कोई अभिमत देने से पहले सभी तथ्यों को भली भांति समझने की चेष्टा की जाए। मूल प्रश्न यह कि ये अल्पसंख्यक आखिर हैं कौन?

2. अल्पसंख्यक शब्द को भरतीय संविधान में परिभाषित नहीं किया गया है। यह संवैधानिक बात अभी भी अनिर्णित ही है। पर अब इस ओर प्रयत्न होना आरम्भ हो गया है। वैसे उच्चतम न्यायालय ने अपने एक फैसले में उल्लेख किया था कि संख्या की दृष्टि से राज्य की पूरी आबादी के 50 प्रतिशत से कम संख्या वाले भाषाई अथवा धार्मिक समाज को अल्पसंख्यक समाज कहा जाता है। इस बात की पुष्टि हुई गृह मंत्रालय के एक प्रस्ताव में। भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने 12.1.1978 के एक प्रस्ताव के द्वारा एक अल्पसंख्यक आयोग का गठन धार्मिक तथा भाषाई अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा के लिए किया  प्रस्ताव सं. 2/16012-271/ एन. आइ. डी डी , दिनांक 12.1.78  । इन हितों का आधार संविधान की धाराएं 25 से 30 हैं।

3. प्रत्येक अल्पसंख्यक समूह की संस्कृति, वैचारिक व सामाजिक विशिष्टता, स्वतंत्रता और अस्मिता, जो बहुआयामी भारतीय संस्कृति का महत्वपूर्ण अंग है, किसी संख्या बाहुल्य में बह न जाए, शायद इसी भावना से प्रेरित हो इस आयोग का गठन हुआ था। उस समय धार्मिक अल्पसंख्यक लोगों की गिनती में आते थे  ईसाई, जैन, पारसी, बौद्ध, मुसलमान, और सिख। 1991 की जनगणना का उल्लेख इस प्रकार है - 1. मुसलमान  952.33 लाख, 2. ईसाई  188.96 लाख, 3. सिख  162.43 लाख, 4. बौद्ध  63.23 लाख, 5. जैन  33.32 लाख, और 6. पारसी  00.75 लाख

4. अत यह स्पष्ट है कि जैन समाज धर्मिक अल्पसंख्यक समाज हैक् यह कोई अभिनव अपेक्षा या नई और अनोखी मांग नहीं है। यह एक यथार्थ था और है। वैसा ही यथार्थ जैसा यह कि चीन संसार में सबसे बडी आबादी वाला देश है या कि भारत संसार का सबसे बडा गणतंत्र है। ये ऐसे तथ्य हैं जहां किसी अपेक्षा या मांग या वैधानिक पुष्टि की आवश्यकता नहीं होती। और इसीलिए जैन समाज अल्पसंख्यकों की मूल सूचि में सामाजिक रूप से शामिल था।

5. इस स्थिति को राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग कानून (1992) ने बदल दिया। इस नए कानून ने सरकार को अल्पसंख्यकों की एक सूचि बनाने का अधिकार प्रदान किया (धारा 2 द्वारा)। इस कानून में अल्पसंख्यकों की पहचान के कोई मापदण्ड अथवा दिशा निर्देश नहीं हैं। इस सूचि में किसे शामिल किया जाए यह सरकार के विवेक अथवा स्वनिर्णय पर छोड दिया गया। इस नियम का अन्तर्निहित अर्थ यह है कि अल्पसंख्यक समाज केवल वे ही हैं जो इस सूचि में शामिल किए जाएं। साथ ही जो समाज धार्मिक अल्पसंख्यक होने के बावजूद इस सूचि में शामिल नहीं किए गए हैं वे स्वाभाविक रूप से सरकार की दृष्टि में तथा सरकारी लेखे-जोखे में हर संदर्भ में धार्मिक बहुसंख्यक समाज के ही अंग समझे जाएंगे। इस कानून के बनने के बाद समाज कल्याण संबंधी दिनांक 23.10.93 की एक अधिसूचना के माध्यम से धार्मिक अल्पसंख्यकों की एक सूचि जारी की गई जिसमें मुसलमान, ईसाई, सिख, बौद्ध, तथा पारसी, ये पांच शामिल किए गए और जैनों को बाहर रखा गया। 1992 के इस कानून से जो परिवर्तन आया उसी के बाद आरंभ हुई जैनों को पुन धार्मिक अल्पसंख्यकों की सूचि में शामिल करने की मांग।

6. इस परिवर्तन के जो स्पष्ट प्रभाव समझ में आते हैं वे हैं  धार्मिक अल्पसंख्यकों के हितों के लिए जो भी वैधानिक या कानूनी प्रावधान किए गए हैं या किए जाएंगे वे जैनों पर लागू नहीं होंगे। जैन धर्म के एक स्वतन्त्र धर्म व दर्शन होने के बावज़ूद उसके अनुयाइयों पर बहुसंख्यक धार्मिक समाज सम्बन्धी कानून ही लागू होंगे। इसका अर्थ यह हुआ कि देवस्थानों के विषय में राज्य की दृष्टि में जैन मदिरों का विशिष्ट दर्जा समाप्त हो जाएगा और वे सभी कानूनी मामलों में हिन्दू मंदिरों की श्रेणी में ही समझे जाएंगे। यही स्थिति जैनों की शिक्षण तथा अन्य धार्मिक-सामाजिक संस्थओं की होगी। इस संदर्भ में एक उल्लेखनीय तथ्य यह है कि 10.1.1997 को वैष्णो देवी मंदिर के प्रबन्ध के मुकदमे के फैसले में उच्च न्यायालय ने कहा है कि - - ‘सरकार को किसी भी हिन्दू मंदिर के प्रबन्ध को अपने हाथ में लेने का पूर्ण अधिकार है।’

7. ऐसी स्थिति में यदि किसी प्रश्न को कोई स्थान है तो वह है  ‘जब धार्मिक दृष्टिकोण से जैन अल्पसंख्यक हैं तब उन्हें उस घोषित सूचि से बाहर क्यों रखा गया ?’ यदि ऐसा किसी भूल के कारण होगया था तो इस भूल को सुधार कर उन्हें उस सूचि में शामिल क्यों न कर दिया जाय? बात तब उलझती है जब उस भूल को सुधारने की बात का विरोध होता है। यदि इस विरोध के पीछे कोइ तर्कसंगत या ठोस कारण है तो वह खुल कर बाहर क्यों नहीं आता? जब ऐसे उचित प्रश्नों के उŸार नहीं मिलते तो स्वाभाविक ही है कि अशंकाएं जन्म लेंगी और धीरे-धीरे एक मांग के रूप में अभिव्यक्त होने लगेंगी।

8. धर्मिक अल्पसंख्यकों की सूचि से निकाल दिए जाने और पुन शामिल न करने के पीछे किसी सामाजिक या आर्थिक लाभ-हानि का मापदण्ड हो तब भी बात समझ में आती है, चाहे वह सच हो या कल्पना मात्र। किन्तु जिस समाज के पास सभी कुछ हो वह सरकार से क्या लाभ चाहेगा? जैन समाज तो आर्थिक रूप से समृद्ध समूहों में से है, शैक्षणिक योग्यता में वह ऊंचे स्तर पर है, और सांस्कृतिक रूप से भी वह विकसित और अग्रणी है। जैन तो यह घोषित भी करते हैं कि उन्हें ऐसे किसी विशेष लाभ की न तो आवश्यकता है और न अपेक्षा। यही नहीं जैनों का एक बहुत बडा भाग तो इस शर्म से कि ‘आरक्षण’ शब्द के कारण उन्हें कहीं पिछडे वर्ग में न समझ लिया जाए, धर्मिक अल्पसंख्यकों की सूचि में शामिल होने का विरोध भी करता है। अत यह स्पष्ट है कि जैनों की यह मांग किसी भी प्रकार के आरक्षण अथवा आर्थिक लाभ पाने के हेतु नहीं बल्कि अपनी स्वतन्त्र धार्मिक व सांस्कृतिक अस्मिता को अक्षुण्ण रखने के लिए है। यों तो यह प्रत्येक नागरिक का नैसर्गिक अधिकार है किन्तु जब सरकार ने स्वयं ही धार्मिक अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा के लिए विशेष प्रवधान किया है और जैनों को स्वाभविक रूप से उपलब्ध भी हुआ तब अचानक अकारण उन्हें उससे वंचित कर देना अन्याय नहीं तो और क्या है?

9. जब इस प्रश्न का कोई तर्कसंगत उŸार सुझाई नहीं देता तो कुछ लोग पुकार उठते हैं कि अल्पसंख्यक वर्ग में शामिल होने से जैनों की गिनती किसी हेय वर्ग में होने लगेगी। इस आशंका का कोई आधार नहीं है, क्योंकि यह सूचि केवल धार्मिक अल्पसंख्यकों की है। मंडल, दलित, आर्थिक रूप से अकिंचन वर्गों, अनुसूचित जातियों आदि की सूचियों की तरह नहीं। वैसे भी जैन सैद्धान्तिक रूप से ही नहीं व्यावहारिक स्तर पर भी किसी हेय-श्रेय या उच्च-नीच या उत्कृष्ट-निकृष्ट जैसे वर्गभेद या वर्णभेद को स्वीकार नहीं करते। यदि कुछ लोग ऐसा मानते हैं तो वह मान्यता आरोपित है, बाहरी प्रभाव है। सामाजिक संगठन के लिए विकसित की गई वर्ण व्यवस्था तथा जाति व्यवस्था के विकृत स्वरूप से उत्प विषमताओं को दूर करने का सफलतम प्रयोग जैनों ने ही किया था। दो हज़ार वर्षों के निरन्तर और विभि राजनैतिक, आर्थिक, और अन्य प्रहारों के बावज़ूद सामान्य विकृतियों को छोड जैनों का वह आधारभूत सामाजिक संगठन आज भी विद्दमान है; जैनों में जाति या वर्ण पर आधारित ऊंच-नीच को कोई स्थान नहीं है।

10. जैन अल्पसंख्यक हैं इस बात के विरोध में अक्सर एक और बात दोहराई जाती है  ‘जैन तो हिन्दू ही हैं, फिर अल्पसंख्यकों में अलग से गिनती करने का कोइ कारण नहीं है।’ यह अल्पसंख्यकता धार्मिक है यह बात स्थापित हो जाने के बाद भी यदि यह तर्क दिया जाता रहे तो लगता है भ्रान्ति कहीं गहरी है। आवश्यक होगा कि इसे स्पष्ट समझने की चेष्टा की जाए।

11. ‘जैन तो हिन्दू ही हैं।’ यह बात प्रथम दृष्टया ठीक ही लगती है पर यह नहीं देखा जाता कि यहां हिन्दू शब्द किस अर्थ में प्रयुक्त हुआ है। यहां हिन्दू शब्द धर्मवाची नहीं है। यहां हिन्दू का अर्थ है भारतीय संस्कृति में संस्कारित लोग। और इस संदर्भ में हिन्दू एक बहुत व्यापक अवधारणा है जिसे किसी धर्म विशेष में समेटा नहीं जा सकता। सच पूछें तो हिन्दू शब्द जिस अर्थ में यहां प्रयुक्त हुआ है उस अर्थ की उत्पŸिा नकारात्मक है।

12. व्यक्ति की पहचान का सबसे सरल मापदण्ड यह है कि वह किस समूह विशेष से जुडा हुआ है। इस पहचान को हम जितना अधिक स्पष्ट करना चाहते हैं वह उतने ही विभि समूहों से जुडती जाती है। इस देश में रहने वाले व्यक्ति की सबसे सामान्य पहचान है इस देश का नागरिक होना और इसके लिए हम उपयोग करते हैं भरतीय अथवा हिन्दुस्तानी शब्द का। इससे अधिक विशिष्ट पहचान चाहने पर हम विभि संदर्भों में विभि समूहवाचक विशेषणों का प्रयोग करते हैं, जैसे  बंगाली, ब्राह्मण, पहाडी, मजदूर, छात्र, आदि। इसी प्रकार जब सामाजिक और सांस्कृतिक संदर्भ में विशाल समूहों के रूप में लोगों को पहचाने जाने की आवश्यकता पडी तो प्रक्रिया कुछ इस प्रकार आरम्भ हुई  यह विशिष्ट समूह ईसाई है, यह चीनी है, यह मुसलमान है, यह आदिवासी है, आदि। इस प्रक्रिया का अन्त हुआ इस बात में कि जो ऐसी किसी अन्य सांस्कृतिक पहचान वाले पृथक सामाजिक संगठन में शामिल नहीं हैं वे सभी हिन्दू हैं। हिन्दू शब्द के इस व्यापक अर्थ में वैष्णव भी शामिल हैं तो बौद्ध जैन और सिख भी; बंगाली भी शामिल है तो कश्मीरी, गुजराती, और मद्रासी भी; ब्राह्मण भी शामिल है तो क्षत्रिय, वैश्य, और शूद्र भी; कॉकेशियन भी शामिल है तो नीग्रोइड और मोंगोलाइड भी। जिसे हम भारतीय सभ्यता या हिन्दू सभ्यता कह कर संबोधित करते हैं उस बहुरंगी संस्कृति में ऐसी ही रीति-रिवाज़ों की, रहन-सहन की, खान-पान की, पहनावे की, धार्मिक, सामाजिक, भाषाई, आदि असंख्य विविधताएं सौहार्दपूर्ण सहअस्तित्व की भावना लिए सिमटी हैं ।

13. इस दृष्टिकोण से सामाजिक संदर्भ में जैन इस वृहŸार हिन्दू समाज से अलग नहीं हैं, सच में ही उसके एक अविभाज्य अंग हैं। यह भी सच है कि जैन सदा ही भारतीय संस्कृति या वृहŸार हिन्दू समाज के अंग होने में गौरव का अनुभव करते आए हैं तथा उसे समृद्ध बनाने में अनादि काल से महत्वपूर्ण योगदान करते आये हैं। इस वृहŸार हिन्दू समाज में पुनर्जन्म तथा कर्मवाद में आस्था रखने वाले वैदिक, जैन, सिख, तथा बौद्ध आदि पंथों के अनुयायी ही नहीं अनेकों विभि स्थानीय या क्षेत्रीय देवी-देवताओं को मानने-पूजने वाले भी शामिल हैं।

14. किन्तु यदि हम धर्म (पंथ) की बात करते हैं और हिन्दू शब्द का अर्थ पंथ विशेष के अनुयायी बता कर यह स्थापित करना चाहते हैं कि जैन तो हिन्दू ही हैं, तो वही वाक्य ग़लत हो जाता है। जैन धर्म उस धर्म का अंग नहीं है जिसे प्रचलित भाषा में हिन्दू धर्म कहा जाता है। जैन धर्म उस प्राचीनतम श्रमण परम्परा की एक स्वतंत्र शाखा है जो कर्ता ईश्वर में आस्था नहीं रखती। उसी श्रमण परम्परा की कर्ता ईश्वर में आस्था नहीं रखने वाली एक अन्य शाखा है बौद्ध धर्म। जो जैन धर्म को हिन्दू धर्म की शाखा बताते हैं वे संभवत तथ्यों से अनभिज्ञ हैं और उनकी टिप्पणि पर इससे अधिक प्रतिक्रिया की आवश्यकता नहीं कि वे अपनी जानकारी बढत्रष्ष् कात्रष्ष् ेचंदत्रष्ष् ह्ययतनत्रष्ष्झ

15. हिन्दू एक अनेकार्थक शब्द है और यही इस भ्रान्ति का मूल है। ऐसे शब्दों का प्रयोग सुविधानुसार अपने-अपने निहित स्वार्थों के लिए करना अनुचित है, यह बात सभी को समझनी चाहिए। ऐसी भ्रान्तियों से बचा जा सके इसलिए ऐसे शब्दों का प्रयोग सावधानी से तथा स्पष्टीकरण के साथ किया जाना चाहिए। पाश्चात्य लोगों ने तो ऐसी सब भ्रान्तियां भारत को दुर्बल बना कर राजनैतिक ही नहीं सांस्कृतिक दासता में जकडने के लिए सुनियोजित ढत्रष्ष् ीाीत्रष्ष् परिवत्रनत्रष्ष् सवतनत्रष्ताष् सेत्रष्ष् ुेलाईंत्रष्ष् ेचंदत्रष्ष् नत्रष्ष् लानेत्रष्ष्झ

16. जैनों की इस मांग के विरोधी एक और भय दिखाते हैं। वह यह कि यदि जैन अल्प-संख्यकों में शामिल होने पर ज़ोर देंगे तो बहुसंख्यक हिन्दू धर्मावलम्बी के नाम से पहचाने जाने वाले लोग उनके विरुद्ध हो जाएंगे, नाराज़ हो जाएंगे, आपस में हिलमिल कर नहीं रहेंगे, आदि। यह आशंका एक थोपे हुए या उधार लिए हुए दृष्टिकोण की उपज है। ऐसा लगता है कि जो लोग भारतीय संस्कृति के स्वयंभू कर्णधार बने बैठे हैं वे भी इस संस्कृति को पाश्चात्य दृष्टिकोण से देखने के ही आदी हो गए हैं। वैचारिक तथा आस्था के जन्मजात वैयक्तिक अधिकार के साथ सामाजिक स्तर पर परस्पर आदर और सौहार्द सहित सहअस्तित्व की भावना से परिपूर्ण हमारी जीवन शैली और समाज व्यवस्था को ये लोग आधुनिकता या प्रगतिशीलता की दुहाई दे पाश्चात्य मापदण्डों पर ही तोलते हैं। विघटन की इस दुरभिसन्धि में तथाकथित विरोधी के रूप में इनके साथ वे लोग भी शामिल हैं जो धर्म पर संस्थाबद्ध एकाधिकार जमा कर रूढियों के सहारे निरीह जनमानस को सदियों से भ्रान्तियां परोसते आरहे हैं। साम्प्रदायिक मतभेदों का और साम्प्रदायिकता का जो कट्टर स्वरूप आज देखने को मिल रहा है वह भी ऐसे ही रूग्ण दृष्टिकोणों की देन है।

17. वस्तुत भारतीय संस्कृति में संप्रदायों का वह स्थान ही नहीं है जो उनका पाश्चात्य संस्कृतियों में है। यही कारण है कि पाश्चात्य जानकार न तो भली भांति हमारी संस्कृति के मर्म को समझ पाते न धर्म या सम्प्रदाय की अवधारणाओं को। हमारे यहां सम्प्रदायों का स्थान उन आवश्यक घटक्रो से विशिष्ट कभी नहीं रहा जो समाज की संरचना के स्वाभाविक अंग होते हैं। प्रत्येक व्यक्ति या समूह को अपनी अनुष्ठान विधि, आस्था, आचार पद्धति, आदि चुनने की उतनी ही स्वतंत्रता है जितनी आवास, वó, भाषा, शिक्षा, मनोरंजन के साधन, आदि चुनने की। यही कारण है कि एक ही घर-परिवार में अनेक देवी-देवताओं की पूजा होना सामान्य बात है। ऐसे परिवारों की संख्या नगण्य मिलेगी जहां सभी सदस्य केवल एक देवी या देवता या गुरू के उपासक हों। किसी बाहरी दबाव से ऐसा होता भी है तो वह लम्बे काल तक टिकता नहीं। आस्थाओं का यह सह-अस्तित्व हमने सेक्यूलेरिज्म शब्द के आयात के बाद नहीं सीखा है। यह हमारी संस्कृति के हज़ारों वर्षों के प्रयोगों और अनुभवों से विकसित मानसिकता है जो नेताओं के लाख प्रयत्नों के बावजूद धूमिल अवश्य हुई है पर नष्ट नहीं हो सकी है।

18. हमारी संस्कृति विविधताओं के सह-अस्तित्व की संस्कृति है जिसे हम आजकल पाश्चात्य एकीकरण या सपाट व्यावहारिक-समानता आदि के संकुचित दृष्टिकोण से देखने-समझने की निष्फल चेष्टा में जुटे रहते हैं। ऐसी सतही एकता और समानता का नितान्त अस्थाई स्वरूप प्रस्तुत किया जाता है साम्यवाद या एकतंत्रीय तानाशाही व्यवस्थाओं के अनुशासन में। इस सपाट समानता को महानता का जामा पहना कर हम अपनी संस्कृति की अन्तर्निहित व नैसर्गिक और स्वस्थ व निर्द्वन्द विविधता को कुचलने का प्रयास अक्सर करने लगते हैं। फलस्वरूप एकता या समानता उपलब्ध होने के स्थान पर मतभेद और आशंकाएं मन में पलने लगती हैं।

19. भरतीय संस्कृति में अल्पसंख्यक या बहुसंख्यक जैसी परिकल्पनाओं को संगठनात्मक रूप से नहीं देखा गया है। इसका कारण यह है कि हम भली भांति समझते हैं कि जिन समूहों को बहुसंख्यक या अल्पसंख्यक कहा जाता है वे सभी अपने उद्गम काल में एक-संख्यक होते हैं। इसीलिए हम अल्प का भी उतना ही आदर करते हैं जितना बहु का। हमारी संस्कृति समाज के गुणात्मक संगठन पर आधारित है संख्यात्मक संगठन पर नहीं। संख्यात्मक संगठन की मानसिकता थोपी हुई है। संख्या बहुलता द्वारा आतंक उत्पन्न करने के स्थान पर हमारी संस्कृति संख्या की अल्पता को विशेष स्नेह देती है। क्योंकि हम प्रकृति में रही लघुतम वस्तु की स्वतन्त्र अस्मिता को सादर स्वीकार करते हैं। हमारा सह-अस्तित्व भय या आतंक पर आश्रित नहीं है, वह सहीष्णुता, भ्रातृत्व, और परस्पर सहयोग पर आधारित है। ऐसा नहीं है कि हम संख्या को महत्व ही नहीं देते, या संख्या कभी प्रभावी ही नहीं होती। पर वैसा हमारी संस्कृति के लिए स्वाभाविक नहीं परिस्थितिजन्य है। जब समाज के शीर्ष पर स्वार्थ स्थापित हो जाए तब उस स्वार्थ द्वारा शोषित होने से बचने के लिए संख्या का शó काम में लेना ही पडता है।

20. भरतीय संस्कृति ऐसी वैविध्यपूर्ण संस्कृति है जिसमें प्रत्येक विविधता को स्थान है चाहे वह परस्पर विरोधी ही क्यों न हों। हमारे लिए एकता देशप्रेम की वह डोरी है जिसमें विविध रंग, रूप, आकार, और भार की मणियां पिरोई हुई हैं। जो इन मणियों के रंग, रूप, आकार, और भार के समान होने में समानता बताते हैं वे स्वयं भटकते हैं और अन्यों को भी भटकाते हैं । अनेकता में निहित एकता और एकता में समाहित अनेकता हमारी संस्कृति की वह अनूठी उपलब्धि है जो संसार की किसी भी अन्य संस्कृति में इतने व्यापक और गहन रूप में दिखाई नहीं देती। ऐसी अनेकता-एकता का एकमात्र अन्य उदाहरण संभवत सं.रा.अमेरीका में उपलब्ध है। किन्तु वह प्रयोग अपने दो शताब्दि के शैशव काल में है। वहां एकता-अनेकता अभी परिस्थितिजन्य दौर से ही गुज़र रही है। उसे हमारे यहां की तरह नैसर्गिक रूप धारण करने में अभी कई पीढियां लगेंगी।

21. ऐसी अ˜ुत किन्तु परिपक्व एकता का आधार किसी समूह विशेष को अल्पसंख्यक सूचि में शामिल करने जैसी गौण सी बात से ढत्रष्ष् ीारपूरत्रष्ष् ीाूलत्रष्ष् पासत्रष्ष् पनपानेत्रष्ष् पÿोत्रष्ष् रखनेत्रष्ष् ााद्रमक,त्रष्ष् ाताओंत्रष्ष् संसकृतित्रष्ष् समृद्धित्रष्ष् समूहत्रष्ष् सह-असिततवत्रष्ष् सहीष्णुतात्रष्ष् सांसकृतिक,त्रष्ष् सवतंत्रष्ताष् सेत्रष्ष् सोचत्रष्ष् दाश्रनिक,त्रष्ष् दोअेत्रष्ष् वत्रष्ष् वेमनसयत्रष्ष् वेसीत्रष्ष् वेचारिकत्रष्ष् तािात्रष्ष् तोत्रष्ष् ेचंदत्रष्ष् जीवनत्रष्ष् जीवनतत्रष्ष् जाएगात्रष्ष् जायगात्रष्ष् जातेत्रष्ष् जेसेत्रष्ष् नहध्त्रष्ष् अपनीत्रष्ष् आशंकात्रष्ष् आशंकांत्रष्ष् आत्रष्ष् आसमानत्रष्ष् अक्षुण्णत्रष्ष् औरत्रष्ष् ग़लतत्रष्ष् ह्ययासत्रष्ष्झ

22. आज जब यह अल्पसंख्यक-बहुसंख्यक का प्रश्न उठा ही दिया गया है तो मेरा अनुरोध है कि वे सभी वैदिक अथवा अन्य धर्मावलम्बी बन्धु जो जैनों की इस मांग के पक्ष में नहीं हैं अपने आप से एक प्रश्न पूछें  ‘क्या पश्चिम की मानसिक दासता से जन्मी असहीष्णु सांप्रदायिकता के बहाव में बह कर वे राजनीतिक स्वार्थों की बलिवेदी पर भारतीय संस्कृति अथवा वृहŸार हिन्दू समाज के एक विशिष्ट, स्वतंत्र, और प्राचीन घटक की आहुति देना पसन्द करेंगे?’

23. वे सभी जैन बंधु भी जो इस मांग का विरोध करते हैं अपने आप से एक प्रश्न पूछें  ‘क्या वे चाहेंगे कि वे वैदिक या अन्य किसी भी संप्रदाय की एक शाखा के रूप में पहचाने जाएं और उनकी एक स्वतंत्र, विशिष्ट, महान, और प्राचीन धर्म, दर्शन, और संस्कृति के रूप में अस्मिता समाप्त करने का उपक्रम आरंभ हो जाए?’

1.11.99/ सुरेन्द्र बोथरा, 3968, रास्ता मोती सिंह भोमियान, जयपुर - 302003. फोन  (91-141) 2569712

Email : surendrabothra@gmail.com

Vardhaman Infotech
 A leading IT company in Jaipur
 Rajasthan, India
 E-mail: info@vardhamaninfotech.com
allvoices